Sunday, September 21, 2014

सिनेमा के साथ एक प्रयोग...

सिनेमा कहानी कहने का सबसे प्रभावी और सशक्त माध्यम है। आपके पास कोई ठोस विचार हो तो उसे अनगिनत लोगों तक संप्रेषित करने में इस विधा का कोई जवाब नहीं। मायानगरी की चकाचौंध में कुछ चेहरे ऐसे भी हैं जो इस विधा का प्रयोग कर रहे हैं एक मिशन के साथ। मिशन है आम लोगों में सोच का एक स्तर विकसित करना, उनके मनोमस्तिष्क को अपने विचारों से उद्द्वेलित कर देना जिससे कि यह लौ दर लौ आगे बढती रहे। यहाँ मैं बात कर रहा हूं श्रीराम डाल्टन और उनकी टीम की। निर्माता-निर्देशक सुभाष घई, सिनेमेटोग्राफर अशोक मेहता जैसी हस्तियों के साथ काम कर रहे श्रीराम ने स्वतंत्र रूप से काम करना शुरू किया, नवाजुद्दीन सिद्दीकी जैसे कलाकार को लेकर  कुछ शौर्ट फिल्म्स बनाईं तो कईयों के हुनर को उभारा भी। हाल ही में लुप्त हो रही विधा 'बहुरुपिया' पर बनारस की पृष्ठभूमि में 'द लॉस्ट बहुरुपिया' बनाई जिसे राष्ट्रपति श्री प्रणव मुखर्जी जी के हाथों राष्ट्रीय पुरष्कार भी मिला। अब वो झाड़खंड में पिछले कुछ दशकों में बदली सामाजिक-राजनीतिक परिस्थितियों पर 'द स्प्रिंग थंडर' का निर्माण कर रहे हैं। लीक से अलग राह पर चलने वालों के आगे परेशानियाँ भी कम नहीं आतीं, मगर ये उनलोगों में हैं जो इनसे घबड़ा पीछे नही हटते बल्कि खुद तो आगे बढ़ते ही हैं दूसरों को सहारा दे रास्ता भी बनाते हैं। अब ये इस क्षेत्र में एक नया प्रयोग कर रहे हैं। झाड़खंड के आम लोगों को सिनेमा से जोड़ने का। मात्र दर्शक के रूप में नहीं बल्कि उनकी अपनी कहानी को कागज से लेकर परदे तक उकेरने में भी। प्रोजेक्ट छोटा और सहज नहीं मगर सपना और लगन उससे भी बड़ी है। झाड़खंड में समस्याओं की कमी नहीं तो इनके पास हौसलों की भी कमी नहीं। संसाधनों की कमी राह में थोड़े रोड़े भले डाल ले, राह रोक नहीं पाती। परिंदों की तरह इनकी परवाज परवान चढ़ रही है।  आप भी जुड़ सकते हैं इनके साथ इनके इस प्रयास मेंयदि आपके पास भी वही जज्बा और जज्बात हों जो इनके पास है....
(http://m.bhaskar.com/news/referer/521/JHA-RAN-national-award-for-the-film-directed-by-sriram-dalton-4602721-PHO.html?referrer_url=https%3A%2F%2Fwww.google.co.in%2F)

Tuesday, September 9, 2014

अशोक चक्र से सम्मानित एअर होस्टेस नीरजा भनोट


यूँ तो आधुनिक भारत के इतिहास में भी वीरता और बहादुरी के क्षेत्र में महिलाओं का योगदान कम नहीं रहा है, मगर यह जिक्र खास बन जाता है उस वीरांगना के कारण जो कि एक एअर होस्टेस थीं और जिन्हें मरणोपरांत देश के सर्वोच्च असैन्य नागरिक सम्मान 'अशोक चक्र' से सम्मानित किया गया। 7 सितम्बर 1964 को चंड़ीगढ़ के हरीश भनोत जी ले यहाँ जन्मी इस बच्ची को वायुयान में बैठने और आकाश में उड़ने की प्रबल इच्छा थी।
नीरजा ने अपनी वो इच्छा 16 जनवरी 1986 को एयर लाइन्स पैन एम ज्वाइन करके पूरी की और वहां बतौर एयर होस्टेस काम करने लगीं। 5 सितम्बर 1986 को पैन एम 73 विमान कराची, पाकिस्तान के एयरपोर्ट पर अपने पायलेट का इंतजार कर रहा था। विमान में लगभग 400 यात्री बैठे हुये थे। अचानक 4 आतंकवादियों ने पूरे विमान को गन प्वांइट पर ले लिया। उन्होंने पाकिस्तानी सरकार पर दबाव बनाया कि वो जल्द से जल्द विमान में पायलट को भेजे। किन्तु पाकिस्तानी सरकार ने मना कर दिया। तब आतंकियों ने नीरजा और उसकी सहयोगियों को बुलाया कि वो सभी यात्रियों के पासपोर्ट एकत्रित करे ताकि वो किसी अमेरिकन नागरिक को मारकर पाकिस्तान पर दबाव बना सके। नीरजा ने सभी यात्रियों के पासपोर्ट एकत्रित किये और विमान में बैठे अमेरिकी यात्रियों के पासपोर्ट छुपाकर बाकी सभी आतंकियों को सौंप दिये। धीरे-धीरे 16 घंटे बीत गये। पाकिस्तान सरकार और आतंकियों के बीच वार्ता का कोई नतीजा नहीं निकला। अचानक नीरजा को ध्यान आया कि प्लेन में फ्यूल किसी भी समय समाप्त हो सकता है और उसके बाद अंधेरा हो जायेगा। उसने अपनी सहपरिचायिकाओं को यात्रियों को खाना बांटने के लिए कहा और साथ ही विमान के आपातकालीन द्वारों के बारे में समझाने वाला कार्ड भी देने को कहा। नीरजा को पता लग चुका था कि आतंकवादी सभी यात्रियों को मारने की सोच चुके हैं।
उसने सर्वप्रथम खाने के पैकेट आतंकियों को ही दिये क्योंकि उसका सोचना था कि भूख से पेट भरने के बाद शायद वो शांत दिमाग से बात करें। इसी बीच सभी यात्रियों ने आपातकालीन द्वारों की पहचान कर ली। नीरजा ने जैसा सोचा था वही हुआ। प्लेन का फ्यूल समाप्त हो गया और चारो ओर अंधेरा छा गया। नीरजा तो इसी समय का इंतजार कर रही थी। तुरन्त उसने विमान के सारे आपातकालीन द्वार खोल दिये। योजना के अनुरूप ही यात्री तुरन्त उन द्वारों के नीचे कूदने लगे। वहीं आतंकियों ने भी अंधेरे में फायरिंग शुरू कर दी। किन्तु नीरजा ने अपने साहस से लगभग सभी यात्रियों को बचा लिया था। कुछ घायल अवश्य हो गये थे किन्तु ठीक थे। किन्तु इससे पहले कि नीरजा खुद भागती तभी उसे बच्चों के रोने की आवाज सुनाई दी। दूसरी ओर पाकिस्तानी सेना के कमांडो भी विमान में आ चुके थे।
इधर नीरजा उन तीन बच्चों को खोज चुकी थी और उन्हें लेकर विमान के आपातकालीन द्वार की ओर बढ़ने लगी। तभी एक आतंकवादी उसके सामने आ खड़ा हुआ। नीरजा ने बच्चों को आपातकालीन द्वार की ओर धकेल दिया और स्वयं उस आतंकी से भिड़ गई। कहाँ वो दुर्दांत आतंकवादी और कहाँ वो 23 वर्ष की पतली-दुबली लड़की। आतंकी ने कई गोलियां उसके सीने में उतार डाली। नीरजा ने अपना बलिदान दे दिया। आतंकियों को पाकिस्तानी कमांडों ने गिरफ्तार कर लिया, किन्तु वो नीरजा को न बचा सके। उनपर बाद में मुकदमा चला और 1988 में उन्हें मौत की सजा सुनाई गई जो बाद नें उम्रकैद नें बदल गई। नीरजा के बलिदान के बाद भारत सरकार ने उन्हें सर्वोच्च नागरिक सम्मान 'अशोक चक्र' प्रदान किया तो वहीं पाकिस्तान की सरकार ने भी नीरजा को 'तमगा-ए-इन्सानियत' प्रदान किया। 2004 में नीरजा भनोत पर डाक टिकट भी जारी हो चुका है।
स्वतंत्र भारत की इस महानतम विरांगना को नमन.....

Friday, September 5, 2014

शिक्षक दिवस के अवसर पर गुरु द्रोणाचार्य का स्मरण


यूँ तो गुरु द्रोण को आज के दिन थोड़ी आलोचना के साथ ही याद किया जाता है। शिक्षा को राजकुल तक सीमित करने, व्यवसायीकरण करने और एकलव्य के साथ अन्याय करने तक के लिए भी... मगर कई मायनों में उनकी तुलना आज के शिक्षा के व्यवसायियों से की भी नहीं जा सकती। खैर फ़िलहाल चर्चा एकलव्य की। उनके ऊपर एकलव्य का अंगूठा गुरु दक्षिणा में मांग लेने के आरोप लगाये जाते हैं। मगर एकलव्य जैसे शिष्य के साथ कोई गुरु ऐसा कैसे कर सकता है ! कई बार गुरु की कठोरता के पीछे कुछ और ही आशय होता है। प्राचीन परम्पराओं में तीर चलाने की कई विधियाँ प्रचलित थीं। इनमें  अंगूठे का प्रयोग वाली विधि शेष से कमतर ही मानी जाती थी। अंगूठे को तीर चलाने की निरंतरता में बाधक ही माना जाता था। आज भी आधुनिक तीरंदाज सामान्यतः अंगूठे का प्रयोग नहीं करते। तो कहीं ऐसा तो नहीं कि जिसप्रकार एकलव्य ने बिना द्रोण को बताये उनसे ज्ञान लिया उसी प्रकार गुरु द्रोण ने भी अपनी सीमाओं के बावजूद और जगत के तमाम लांक्षण उठाते हुए भी एकलव्य को उसकी गुरुभक्ति का प्रतिदान दे ही दिया, जो कुछ न कहते हुए भी उसके भविष्य के लिए बेहतर ही था। अंगूठे के बिना भी उसकी लगन उसे तीरंदाजी के अभ्यास के लिए प्रेरित करती ही और अब उसके पास वही विकल्प होता जो अन्य राजपुरुषों के पास थे। अन्यथा यदि गुरु द्रोण उससे उसकी हथेली भी मांग ले सकते थे और यहां शायद ही कोई हो जो कहे कि एकलव्य इंकार कर देता...
इससे यह भी स्पष्ट है कि गुरु-शिष्य संबंध में दोनों की योग्यता ही नहीं समर्पण का भी कितना महत्व है.....

वीडियो - "झूला झूले से बिहारी.....'

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...