Monday, January 11, 2010

गीत गाता चल

काफी समय बाद 2009 की चिट्ठी लिख पाया हूँ.
काफी कुछ दिया इस वर्ष ने, मगर बनारस से दूर होने की टीस अब भी बाकि है. इतना बड़ा खुद को नहीं समझता कि किसी को माफ़ करने के लायक खुद को मानूँ, मगर उन्हें भुलाने की कोशिश चार माह बाद भी जारी है. शायद इसीलिए दुनिया की मुख्यधारा से कट इस सुदूरतम स्थल पर आ गया हूँ.
अब बेहतर समझ पा रहा हूँ कि परिवर्तन को स्वीकार कर आगे बढ़ते जाना ही जिंदगी है, और मैं भी जिंदगी का साथ निभाता बढ़ता जा रहा हूँ.
हाँ ब्लॉग जगत की मधुर यादें एक खुशनुमा झोंके की तरह साथ हैं.
साहित्यिक दृष्टि से भी काफी सार्थक रहा यह साल.
जिस विषय से जुड़ा रहा, उसी में और अपनी रुची के करीब जॉब मिलना भी इस वर्ष की एक सौगात रही.
आशा है आप सभी ब्लौगर्स के लिए भी गुजरा साल बेहतर रहा होगा,
कामना करता हूँ कि नया साल भी आपके लिए मंगलमय हो.
शुभकामनाएं.

10 comments:

संगीता पुरी said...

आपके और आपके परिवार के लिए भी नववर्ष मंगलमय हो !!

Udan Tashtari said...

आपके लिए भी नया साल बहुत मंगलकारी सिद्ध हो!!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ!

राज भाटिय़ा said...

नव वर्ष की आप को ओर आपके परिवार को हार्दिक शुभकामनाएँ!

विनीता यशस्वी said...

apko bhi nav varsh ki shubhkaamneye...

Prerna said...

nav varsh ki aapko bhi haardik shubhkamnae..

Abhishek Mishra said...

आप सभी की शुभकामनाओं का धन्यवाद . 14 फरवरी के लिए भी एक पोस्ट सेव है, आपकी प्रतिक्रियाओं का इंतज़ार रहेगा.

MUFLIS said...

nav-varsh meiN
aapki mn ki manokaamnaaeiN
poorn hoN...
yahi duaa hai .

Chandrika Shubham said...

Nice post! Change is a part of life.
Happy New Year. :)

Arvind Mishra said...

आपको भी नववर्ष की बहुत शुभकामनाएं

वीडियो - "झूला झूले से बिहारी.....'

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...