Wednesday, February 17, 2010

अरुणाचल : तो बजरंग बली यहाँ तपस्यारत हैं !

Breaking News for India TV
 
मान्यता है कि बजरंग बली भगवान श्री राम से आशीर्वाद प्राप्त कर अजर-अमर हो गए और हिमालय की ही किसी कन्दरा में तपस्यालीन हैं. इस मान्यता में सच्चाई कितनी है यह तो ज्ञात नहीं मगर अरुणाचल में एक स्थल है जहाँ पर्वतों पर ubhari एक छवि बजरंग बली के रूप में ही देखी जाती है.
 
अरुणाचल के प. सियांग जिले के एक महत्त्वपूर्ण स्थल मेचुका से लगभग 10 किमी. की दुरी पर हनुमान  कैंप है. उसके थोडा पहले ही एक view पॉइंट से सामने की पहाड़ी पर  पत्थरों की बनी एक मानवीय आकृति सा आभास मिलता है, जिसे बजरंग बली की छवि माना जाता है. आस्था और विज्ञान के सवालों से परे खुबसूरत वादियों और पहाड़ियों के बीच यह स्थल धार्मिक लिहाज से भी अनूठा है.

9 comments:

Arvind Mishra said...

कहाँ कहाँ तक पहुँच चुके हैं हनुमान जी !

रचना दीक्षित said...

जानकारी बहुत अच्छी है हमेशा की तरह ज्ञानवर्धक. पर ये इंडिया टी वी का क्या चक्कर है. वैसे इस तरह की बातें उसी चैनेल पर ज्यादा दिखती हैं मिर्च मसाले के साथ गर्म मसाला भी खूब होता है. क्या यही कारण है ?

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

बहुत उपयोगी जानकारी!
मगर पवनपुत्र तो हवा में उड़ते थे!

राज भाटिय़ा said...

मिश्रा जी, यह सब गलत है... ओर टी वी वाले यु ही बाते बना देते है, कुछ एक सालो मे इस चट्टन का रुप बदल जायेगा, वेसे मै आप को एक दो चित्र स्विस मै शुट किये भेजूंगा जिस मै एक पहाडी कभी सिव जी का रुप तो कभी गणेश जी का रुप लगती है, यह सब हमारी कलपना है भगवान कभी भी ऎसे रुप मै नही दिखते.
धन्यवाद

नीरज मुसाफिर जाट said...

राज भाटिया जी सही कह रहे हैं

हिमांशु । Himanshu said...

हनुमान जी तपस्यारत हैं वहाँ ? आकृति तो हम देख ही लेते हैं बहुत-सी जगहों पर !
आभार ।

Lydia said...

Hi, ur blog is really interesting & wonderful, while reading it I truly like it. I just wanna suggest that u should submit your blog in this website which is offering very unique features at cheap prices there are expert advertising team who will promote ur blog & affiliate ads through all over the networks which will definitely boost ur traffic & readers. Finally I have bookmarked ur blog & also shared to my friends.i think my friend might too like it hope u have a wonderful day & !!happy blogging!!.

Megaliths of India said...

Bittu,
The snap is really outstanding and surely calls for an award. But whether it is man made or just a freak of nature needs to be closely studied.

However there are evidences all over the world where early humans of the megalithic age had sculpted faces at the most awkward of the places.

But for heaven's sake even if the local legend suggests please donot associate it with our good old Hanuman ji.
Subhashis das (mausaji)

चिराग जैन CHIRAG JAIN said...

नमस्कार
गत वर्ष आप मेरे ब्लॉग पर आए थे तथा "महावीर भगवान" पर रचित कविता की अनुशंसा की थी।
आपके स्नेह और शुभकामनाओं से मैंने अपने ब्लॉग को वेबसाइट में रूपांतरित कर दिया है।
इस वेबसाइट पर आपको निरंतर अच्छी और सच्ची कविताएँ पढ़ने को मिलती रहेंगी।
आपके सुझाव तथा सहयोग अपेक्षित है।
कृपया एक बार विज़िट अवश्य करें

www.kavyanchal.com

वीडियो - "झूला झूले से बिहारी.....'

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...