Friday, November 6, 2009

ब्लॉग जगत के 2 स्तंभ

जिनके बिना अधूरी थी चर्चा
अटैचमेंट में इन्टरनेट का असहयोग फोटोज के साथ पोस्ट्स पर भारी पड़ रहा है. ऐसे में ब्लौगिंग जारी रह पा रही है इसमें कुह महत्त्वपूर्ण ब्लौगिंग हस्तियों का भी योगदान रहा है।

अपनी पिछली एक पोस्ट में मैंने अपने संपर्क में आये कुछ ब्लौगर्स की चर्चा की थी, यह चर्चा अधूरी है यदि इनमें दो और नामों को शामिल न कर लूँ. ये दो सज्जन हैं - हिंदी ब्लॉग टिप्स के आशीष खंडेलवाल जी और हिन्दयुग्म के शैलेश भारतवासी
आशीष जी औरों की नजर में चाहे जो हों, मैं तो उन्हें ब्लॉग जगत का 'मुग़ल - ऐ - आजम' मानता हूँ। उनके दिए टिप्स ने ब्लॉग जगत की तस्वीर बदलने में उल्लेखनीय भूमिका निभाई है.किसी भी तकनिकी समस्या के लिए उनकी सहज उपलब्धता हम ब्लौगर्स को कितनी राहत देती है इसकी अभिव्यक्ति सहज नहीं। उनकी तारीफ में शब्द भी कम हैं और मेरे पास समय भी. (क्योंकि आज पुनः फिल्ड जा रहा हूँ) इसलिए बस इतना ही.

शैलेश जी से मेरी मुलाकात 'रांची ब्लौगर्स मीट' में हुई थी। हिंदी ब्लौगिंग को लोकप्रिय बनाने में इनका भी महत्त्वपूर्ण योगदान है। इस संबंध में किसी भी सहयोग के लिए वो सदा तत्पर रहते हैं. अपनी घुमक्कड़ नियती और साइबर कैफे आदि पर निर्भरता से मैं उनका ज्यादा लाभ नहीं उठा सका हूँ मगर वजह - बेवजह उन्हें परेशान करने का मौका हाथ से जाने नहीं देता.
आशा है हिंदी ब्लॉग जगत की ये विभूतियाँ इस ब्लॉग परिवार को आगे भी सदा यूँ ही समृद्ध करती रहेंगीं. शुभकामनाएं.

10 comments:

अजय कुमार झा said...

हम सोचिये रहे थे कि यार ई तीसरा खंभा (वकील साहेब वाला )तो मिल जाता है .ई फ़र्स्ट आउर सेकेंड वाला नहीं मिल रहा था ....आज निकाले आप खोद के ...आजे पकड लेते हैं अजी जकड लेते हैं बस

वाणी गीत said...

आशीषजी की सहज उपलब्धता सराहनीय है ...उक्त दोनों महानुभावों को शुभकामनायें ..!!

मोहिन्दर कुमार said...

अभिषेक जी ब्लोग जगत में खम्बों की क्या कमी है...हां कुछ मजबूत कुछ कमजोर हो सकते हैं.

वैसे सभी भवन को ही देखते हैं... नींव के पत्त्थर का तो कोई बजूद होता ही नहीं है
:)

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

दोनों का योगदान बहुत महत्वपूर्ण और उल्लेखनीय है।

संगीता पुरी said...

दोनो को शुभकामनाएं !!

आशीष खण्डेलवाल (Ashish Khandelwal) said...

आपका आभार..इन अमूल्य प्रशंसा भरे शब्दों के लिए, जिनके लायक मैं खुद को कभी नहीं मानता

हैपी ब्लॉगिंग

शैलेश भारतवासी said...

अभिषेक जी,

ब्लॉग जगत में हर ब्लॉगर खुद ही एक अभेद संसार है। या यूँ कह लें कि बड़े ब्रह्माण्ड की छोटी-छोटी आकाशगंगा। हाँ, यह ज़रूर है कि आपने इस पोस्ट के माध्यम से हमें एक पहचान दे दी। धन्यवाद।

राज भाटिय़ा said...

बहुत सुंदर भाई दोनो ही बहुत मदद करते है हम सब की. धन्यवाद

M VERMA said...

वाकई सही परखा है

Mrs. Asha Joglekar said...

धन्यवाद आशीष भाई और शैलेश भाई ।

वीडियो - "झूला झूले से बिहारी.....'

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...