Saturday, January 15, 2011

विकिपीडिया के दस वर्ष ; जन्मदिन मुबारक


यह एक अद्भुत संजोग है कि जब मैंने ब्लौगिंग शुरू की थी तब उसके प्रारंभिक दौर में ही 'गूगल' का 10 वाँ जन्मदिन आन पड़ा था, और अब जबकि एक ब्रेक के बाद पुनः ब्लौगिंग शुरू की है तो एक और मशहूर सर्च इंजन 'विकीपीडिया' का 10 वाँ जन्मदिन आन पड़ा है. जी हाँ, आज 15 जनवरी को विकिपीडिया अपनी स्थापना के दस वर्ष पूरे करने जा रहा है. इसके प्रंशसक इस दिन को 'विकिपीडिया डे' के रूप में भी सेलिब्रेट करते हैं.

15 जनवरी 2001 को जिमी वेल्स और लैरी सैगर द्वारा ऑनलाइन विश्वकोश WikiPedia की स्थापना की गई.

विकिपीडिया शब्द 'विकी' (यानी एक ऐसा जाल पृष्ठ जो सभी को इसका संपादन करने की छूट देता है) और 'इनसाइक्लोपीडिया '(ज्ञानकोष) शब्दों को मिला के बना है।

स्थापना के पूर्व ही इसे जिस आलोचना का सर्वाधिक सामना करना पड़ा वो थी - " विश्वकोष का निर्माण शोधकर्ताओं और विद्वानों की जिम्मेवारी है; आम लोगों की नहीं." निःशुल्क, व्यापक, गैरलाभकारी और मुक्त ज्ञानकोष की स्थापना और वो भी बिना किसी प्रायोजक की मदद के; वाकई संस्थापकों के लिए एक बड़ी चुनौती थी.

मगर संचालकों ने इन चुनौतियों के आगे हिम्मत नहीं हारी. लेखों की Crowd sourcing (आम लोगों से जुटाई सामग्री) पर निर्भर इस साईट द्वारा धन के लिए भी विज्ञापनों के सब्सक्रिप्शन की जगह Crowd sourcing का ही सहारा लिया गया. और नतीजा ? 250 से भी अधिक भाषाओँ में 2.6 करोड लेखों के साथ आज यह इन्टरनेट पर 5 वें नंबर की सबसे सफल वेबसाइट है. एक लाख से अधिक स्वयंसेवक संपादकों और अनगिनत लेखकों से लैस इस साईट के उपभोक्ताओं की संख्या 42 करोड से अधिक ही है.

आज यह 200 से भी ज्यादा भाषाओँ में अपनी सेवाएं दे रहा है. हिंदी में यह साईट जुलाई, 2003 से उपलब्ध है और आज इसपर हिंदी में भी लगभग 68000 लेख उपलब्ध हैं.

सूचनाओं के संकलन में आम आदमी की साझेदारी के प्रयोग ने इसे कई विवादों में भी डाला मगर इसने अपनी कार्यप्रणाली को दुरुस्त करते हुए अपनी विश्वनियता बनाये रखी है.

एक बड़ी सोच और बुलंद इरादों के साथ प्रारंभ कोई विचार कैसे अपनी मजबूत नींव स्थापित करता है, इसका अप्रतीम उदाहरण है 'विकिपीडिया'.

दसवीं सालगिरह पर उज्जवल और प्रगतिशील भविष्य की हार्दिक शुभकामनाएं.

6 comments:

Kajal Kumar said...

विकीपीडिया की जानकारी प्रमाणिक नहीं होने के बावजूद महत्वपूर्ण है इस साइट का होना

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

विकीपीडिया के बारे में इसी बहाने कुछ महत्‍वपूर्ण जानकारी मिल गयी, आभार।

---------
डा0 अरविंद मिश्र: एक व्‍यक्ति, एक आंदोलन।
एक फोन और सारी समस्‍याओं से मुक्ति।

राज भाटिय़ा said...

बहुत सुंदर जानकरी जी, धन्यवाद

उन्मुक्त said...

My salute to Wikipedia.

रचना दीक्षित said...

बहुत सुंदर जानकरी

Arvind Mishra said...

ज्ञान की इस महा गंगा में आज हम डुबकियाँ लगा रहे हैं -कृतज्ञ हैं हम!

वीडियो - "झूला झूले से बिहारी.....'

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...