Sunday, January 16, 2011

स्त्री मनोविज्ञान का चित्रण करता एक चीनी नाटक ‘The Amorous Lotus Pan’


नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा (NSD) के 13 वें ‘भारत रंग महोत्सव’ में कल ‘कमानी’ रंगालय में एक चीनी नाटक ‘अमोरौस लोटस पैन’ ( The Amorous Lotus Pan ) का मंचन हुआ. ‘सेंट्रल अकादमी ऑफ ड्रामा’, चीन द्वारा प्रस्तुत प्रो. चेन गेंग द्वारा निर्देशित यह नाटक चीन के एक प्रमुख शास्त्रीय उपन्यास ‘ आउटलाज ऑफ दि मार्श ‘ की एक पात्र पैन जिनलियन पर आधारित है.

स्त्री मनोविज्ञान की पड़ताल करते इस नाटक में नियति और व्यक्तित्व के बीच होने वाले अंतर्द्वंद और मनुष्य पर इसके प्रभाव को सामने लाने का प्रयास किया गया है.

नायिका पैन जिनलियन अल्पायु में ही अनाथ हो जाती है. उसे एक अमीर व्यक्ति झेंग दाऊ को बेच दिया जाता है, जो उसे अपनी उप पत्नी बनाना चाहता है. पैन द्वारा प्रस्ताव ठुकरा दिए जाने पर, झेंग उसके साथ बलात्कार कर सजा के रूप में वुडा नाम के बौने को सौंप देता है. वुडा एक कायर, दब्बू और यथास्थितिवादी इंसान है, जिसके साथ पैन की जिंदगी में कोई आकर्षण रह ही नहीं जाता है. वो, वुडा के छोटे भाई वु सौंग जो काफी बहादुर और आकर्षक है; से प्रेम करने लगती है. मगर वो उसकी भावनाओं को स्वीकार नहीं करता. अंततः वह एक अमीर व्यक्ति ‘ झिमैन किंग ‘ से जुड जाती है. पति के तलाक देने पर राजी न होने पर किंग के उकसावे पर पैन वुडा को जहर दे देती है. वु सौंग अपने भाई की हत्या के प्रतिशोध में पैन द्वारा आत्मस्वीकृति और उसे इस स्थिति में पहुँचाने में अपनी भूमिका को देखता हुआ भी पैन की हत्या कर देता है. अंत में पैन का अभिनय कर रही प्रतिभाशाली अभिनेत्री – ‘ली येकिंग’ दर्शकों के समक्ष एक प्रश्न रखती है कि –

“ यदि वह पैन जिनलियन होती और ठीक इसी तरह के दुर्भाग्य से संघर्ष कर रही होती, तब वह अपने लिए क्या चुनाव करती ? “

यह सवाल वर्त्तमान वैश्विक एकरूपता के इस युग में प्रत्येक स्त्री सहित संपूर्ण समाज से किया गया एक सवाल भी है. है इसका कोई जवाब आपके पास ???

ये नाटक इस मायने में भी खास है कि यह पुनः रेखांकित करता है कि स्त्री मनोविज्ञान को समझने में अपनी असमर्थता को स्वीकार करने में सभी धर्मों के प्राचीन आख्यानों; भारतीय, रोमन, ब्रिटिश आदि सभी नाटकों में भी एक अद्भुत साम्य है. इस नाटक का स्रोत और यह नाटक भी इसी श्रृंखला में एक कड़ी लगते हैं.

नाटक का प्रस्तुतीकरण, पात्रों का अभिनय काफी प्रभावशाली है; विशेषकर मानवीय अंतर्द्वंद की अभिव्यक्ति का नाट्य चित्रण सराहनीय है.

यह नाटक हमें चीनी समाज को जरा पास से देखने का एक अवसर भी देता है, और कहीं न कहीं यह सोच भी जगाता है कि अपनी संस्कृति और समाज को वैश्विक प्रभाव से संरक्षित रखने की इसकी अपनी भावना और शैली है; जिसका हमें सम्मान करना चाहिए. बेवजह उसे सभ्यता और मानवाधिकार जैसे पाठ पढाने का नैतिक अधिकार शेष विश्व के पास भी नहीं ही है. चीन जैसा है, उसे वैसे ही स्वीकार करते हुए उसके साथ परस्पर सामंजस्य के नए स्रोत भी ढूंढने चाहिए. और निश्चय ही कला व संस्कृति की इसमें एक महत्त्वपूर्ण भूमिका हो सकती है.


Saturday, January 15, 2011

विकिपीडिया के दस वर्ष ; जन्मदिन मुबारक


यह एक अद्भुत संजोग है कि जब मैंने ब्लौगिंग शुरू की थी तब उसके प्रारंभिक दौर में ही 'गूगल' का 10 वाँ जन्मदिन आन पड़ा था, और अब जबकि एक ब्रेक के बाद पुनः ब्लौगिंग शुरू की है तो एक और मशहूर सर्च इंजन 'विकीपीडिया' का 10 वाँ जन्मदिन आन पड़ा है. जी हाँ, आज 15 जनवरी को विकिपीडिया अपनी स्थापना के दस वर्ष पूरे करने जा रहा है. इसके प्रंशसक इस दिन को 'विकिपीडिया डे' के रूप में भी सेलिब्रेट करते हैं.

15 जनवरी 2001 को जिमी वेल्स और लैरी सैगर द्वारा ऑनलाइन विश्वकोश WikiPedia की स्थापना की गई.

विकिपीडिया शब्द 'विकी' (यानी एक ऐसा जाल पृष्ठ जो सभी को इसका संपादन करने की छूट देता है) और 'इनसाइक्लोपीडिया '(ज्ञानकोष) शब्दों को मिला के बना है।

स्थापना के पूर्व ही इसे जिस आलोचना का सर्वाधिक सामना करना पड़ा वो थी - " विश्वकोष का निर्माण शोधकर्ताओं और विद्वानों की जिम्मेवारी है; आम लोगों की नहीं." निःशुल्क, व्यापक, गैरलाभकारी और मुक्त ज्ञानकोष की स्थापना और वो भी बिना किसी प्रायोजक की मदद के; वाकई संस्थापकों के लिए एक बड़ी चुनौती थी.

मगर संचालकों ने इन चुनौतियों के आगे हिम्मत नहीं हारी. लेखों की Crowd sourcing (आम लोगों से जुटाई सामग्री) पर निर्भर इस साईट द्वारा धन के लिए भी विज्ञापनों के सब्सक्रिप्शन की जगह Crowd sourcing का ही सहारा लिया गया. और नतीजा ? 250 से भी अधिक भाषाओँ में 2.6 करोड लेखों के साथ आज यह इन्टरनेट पर 5 वें नंबर की सबसे सफल वेबसाइट है. एक लाख से अधिक स्वयंसेवक संपादकों और अनगिनत लेखकों से लैस इस साईट के उपभोक्ताओं की संख्या 42 करोड से अधिक ही है.

आज यह 200 से भी ज्यादा भाषाओँ में अपनी सेवाएं दे रहा है. हिंदी में यह साईट जुलाई, 2003 से उपलब्ध है और आज इसपर हिंदी में भी लगभग 68000 लेख उपलब्ध हैं.

सूचनाओं के संकलन में आम आदमी की साझेदारी के प्रयोग ने इसे कई विवादों में भी डाला मगर इसने अपनी कार्यप्रणाली को दुरुस्त करते हुए अपनी विश्वनियता बनाये रखी है.

एक बड़ी सोच और बुलंद इरादों के साथ प्रारंभ कोई विचार कैसे अपनी मजबूत नींव स्थापित करता है, इसका अप्रतीम उदाहरण है 'विकिपीडिया'.

दसवीं सालगिरह पर उज्जवल और प्रगतिशील भविष्य की हार्दिक शुभकामनाएं.

Friday, January 14, 2011

दिल्ली की लोहड़ी




देश की राजधानी होने के कारण दिल्ली और यहाँ के लोगों के लिए सभी त्यौहार भी अपने ही से हो जाते हैं. यहाँ ‘लोहड़ी’ की धूम रही तो ‘मकर संक्रांति’ का उत्साह भी जोरों पर है. सूर्य देव भी दो दिनों से अपनी रंगत में लौट दिल्लीवासियों को राहत और खुशी के पूरे मौके दे रहे हैं.

यूँ तो आधुनिकता में हमारे कई पारंपरिक खेल भी लुप्त ही होते जा रहे हैं, मगर अपने अतीत में झांकें तो दिसंबर - जनवरी के दौरान बच्चे एक कील पर आधारित लकड़ी से बने 'लट्टू' काफी घुमाया करते थे. कभी सोचा है आपने कि कहीं ये इसी अवधि के दौरान धरती के घूर्णन और इससे होने वाले मौसम चक्र के प्रतीक तो नहीं थे ! पतंग बाजी और लट्टू जैसे खेलों को भी खगोलीय और वैज्ञानिक स्पर्श दे देना - ओह ! It Happens Only in India !!! Incredible India !!!!!!

आप सभी को भी ‘लोहड़ी’, ‘मकर संक्रांति’, ‘उत्तरायण’ की हार्दिक शुभकामनाएं.

Wednesday, January 12, 2011

विवेकानंद के विचारों की कालजयिता


किसी ने कहा था " भारत को समझना हो तो विवेकानंद को पढ़ो. "

देश में भ्रष्टाचार को चरम पर पहुंचते, एक आदर्श के रूप में स्थापित छवियों को खंड - खंड टूटते देख अपनी व्यवस्था के प्रति वितृष्णा देश के बहुसंख्यक युवाओं के साथ मुझे भी कहीं- न कहीं छु सी जा रही है. ऐसे में युवा सन्यासी स्वामी विवेकानंद जैसे व्यक्तित्व का होना आश्चर्यजनक ही लगता है जिसने भारत के इतिहास के सर्वाधिक अंधकारपूर्ण दौर में से एक में भी अपनी हुंकार से पुरे विश्व को उद्वेलित कर दिया. उनका तो सारा जीवन ही एक सन्देश है जिसके बारे में चर्चा करना बिना किसी नयेपन के एक रस्मअदायगी ही होगी. मगर उनके कालजयी विचार पुष्प से कुछ के स्मरण इस घनघोर निराशाजनक माहौल में प्रेरणा का कार्य करेंगे.

स्वामी जी ने देशवासियों विशेषकर युवाओं का आह्वान करते हुए कहा था - " राष्ट्ररूपी यह जहाज लाखों लोगों को जीवनरूपी समुद्र के पार करता आ रहा है. कई शताब्दियों से इसका यह कार्य चल रहा है, और इसकी सदाशयता से लाखों आत्माएं इस सागर के उस पार अमृतधाम में पहुंची हैं. पर आज शायद तुम्हारे ही दोषों से इसमें कुछ खराबी आ गई है. इसमें एक - दो छेद हो गए हैं; तो क्या तुम इसे कोसोगे ! संसार में जिसने तुम्हारा सबसे अधिक उपकार किया है, उसपर खड़े होकर गाली बरसाना क्या तुम्हे उचित है ? ..... यदि हमारे इस समाज में, राष्ट्रीय जीवनरूपी जहाज में छेद है, तो हम तो इसकी संतान हैं ; आओ चलें इस छेद को भर दें. ..... मैं तुम्हारे पास आया हूँ अपनी सारी योजनाएं तुम्हारे सामने रखने के लिए. मैं तुम्हारे साथ काम करने के लिए तैयार हूँ. और यदि तुम मुझे ठुकराकर अपने देश के बाहर भी निकाल दो तो भी मैं तुम्हारे पास वापस आकर यही कहूँगा कि - भाई हम सब डूब रहे हैं. मैं आज तुम्हारे पास बैठने आया हूँ. और यदि हमें डूबना है तो आओ हम सब साथ ही डूबें, पर सावधान एक भी कटु शब्द अपने होठों पर न आये. ..... "

शायद ऐसे ही विचार होते हैं जो किसी व्यक्ति को युगपुरुष की कोटि में ला खड़ा करते हैं. हम युवा, जिनके पास उत्तराधिकार में स्वामी विवेकानद के विचारों की ऐसी अप्रतिम विरासत है को निराश होने का तो कोई कारण होना ही नहीं चाहिए. आइये, वर्तमान कृत्रिम आदर्शों और छवियों के ध्वंस होने का शोक मनाने में समय नष्ट करने के बजाये देश निर्माण के परम लक्ष्य में अपने योगदान देने में दृढतापूर्वक तबतक लगे रहे - जबतक कि अपने लक्ष्य तक पहुँच न जायें.

Tuesday, January 11, 2011

गत शुक्रवार को एक छोटे से एक्सीडेंट से गुजरने के बाद अगले दिन शनिवार की छुट्टी होते हुए भी कमरे में ही पुरे आराम की दुह्साध्य परिस्थिति के लिए खुद को मानसिक रूप से तैयार कर ही रहा था कि फेसबुक से गुजरते हुए चंडीदत्त शुक्ल जी के स्टेटस पर नजर पड़ गई जो अपनी एक दिवसीय यात्रा पर दिल्ली पधारने वाले थे. चंडीदत्त शुक्ल जी से ऑनलाइन तो मेरा संपर्क कई सालों से रहा जब वो नोएडा में 'दैनिक जागरण' से जुड़े हुए थे. अरुणाचल जाने के बाद मेरा संपर्क इंटरनेट से टूट गया और इन जैसे कई अन्य व्यक्तियों से भी. नेटवर्क जोन में वापसी के बाद इनसे पुनः संपर्क हुआ तो पता चला अब ये जयपुर में हैं और मेरी कुछ पसंदीदा पत्रिकाओं में से एक 'अहा ! ज़िन्दगी' से जुड़ गए हैं. 

पिछले दिनों अपनी अचानक हुई जयपुर यात्रा में मुझे याद भी न रहा कि ये भी यहीं हैं, वर्ना अपनी साईट विजीट में इनके दर्शन को भी ऐड जरुर कर लेता. अब इनके दिल्ली आने के अवसर को मैं छोड़ना नहीं चाहता था, और यह शनिवार को मेरे बाहर निकलने की एकमात्र प्रेरणा थी. 

कला-विज्ञान-संस्कृति से जुड़े लोगों से मिलने या संपर्क का अवसर मैं छोड़ना नहीं चाहता, यह मेरी कुछ कमजोरियों में से एक है. मेरी इस 'प्रवृत्ति' का शिकार कई लोग हो चुके हैं जिनमें ब्लॉग जगत के ही श्री अरविन्द मिश्र, यूनुस खान आदि भी शामिल हैं. इससे पहले केंद्रीय सचिवालय मेट्रो पर ही एक अन्य ब्लौगर नीरज जाट से भी मुलाकात हो चुकी थी, जिसके सन्दर्भ में यहाँ  भी देखा जा सकता है. यही मेट्रो स्टेशन इस दिन फिर हमारी मुलाकात का गवाह बनाने जा रहा था, जहाँ हमारा मिलना नियत हुआ था. 


चंडीदत्त जी एक कमाल के लेखक, कवि और साथ ही ब्लौगर भी हैं. उनका लिखना पाठकों पर जादू सा असर करता है और उन्हें मंत्रमुग्ध कर देता है. इसका एक उदाहरण मैं उनके फेसबुक पेज से ही दे रहा हूँ, जिसमें उन्होंने इस सामान्य सी मुलाकात को अपने खुबसूरत शब्दों में पिरोकर एक यादगार शक्ल दे दी है - 

कुछ अलसाई सुबहें इस कदर हावी होती हैं कि गुजिश्ता दिन भागते हुए बीतता है और कसम से, ऐसी दोपहरियों के बाद की शामें अक्सर तनहाई की आग से लबरेज़ करते हुए जिस्म को सिहरन से भर देती हैं। 
कुछ ऐसा ही तो मंज़र था उस रात, जब चांद ने सरसराती हवा का आंचल थामकर सांझ को ढलने का इशारा किया और नीले आसमान के दिल के ऐन बीच जा बैठा। ठिठुरती रात ने ओस से कहा-- तुम इतनी सर्द क्यों हो आज...और वो जैसे लजाकर घास के सीने में और गहरे तक दुबक गई। क़दमों के नीचे पत्ते चरमरा रहे थे। दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र की राष्ट्रपति के घर के ठीक बगल सड़क पर खंबों के माथे के ऊपर जगमगाती स्ट्रीटलाइट के नीचे कोई था, जो मेरे इंतज़ार में था और इसी फ़िक्र में मैं भी तो था...ऐन उसी वक्त, इंसानी कारीगरी का बेमिसाल नमूना- दिल्ली मेट्रो के एक शुरुआती डिब्बे में सवार मैं भी बार-बार अपनी घड़ी देखता हुआ वक्त को जैसे रोक लेने की कोशिश में जुटा था...
हर दो-तीन मिनट बाद पीछे छूट जाते प्लेटफॉर्म को अपनी रफ्तार से मुंह चिढ़ाते और जैसे साथ ही फिर मिलने का दिलासा देती मेट्रो जैसे ही मंज़िल तक पहुंची, एस्केलेटर पर मेरे क़दम जम गए और जैसे ही खुद चलती सीढ़ियां रुकीं, बेताब निगाहों ने बाहर झांककर यकीन करना चाहा-- है तो सही, वो शख्स, जिससे मिलना आज मुमकिन हुआ है। नज़रें चेहरा नहीं तलाश पाईं पर फोन के पार एक आवाज़ मौजूद थी--हां जी...आता हूं। रात के सवा नौ बजे, राह को लांघ, वो मेरे सामने था। ये ज़िक्र है--झारखंड के रहने वाले, बनारस में पढ़े, अरुणाचल में नौकरी कर चुके और फिलहाल, फरीदाबाद में सेवारत अभिषेक मिश्र का। ब्लॉगर, पत्रकार, लेखक, संगीतप्रेमी... ये तमगे दरअसल छोटे और नाकाफ़ी हैं अभिषेक का बयान करने के लिए। यकीनन...वो सबसे पहले और सबसे ज्यादा एक स्वीट इंसान हैं। एक दिन पहले ही एक एक्सीडेंट से जूझने और रा-वन देखने की हिम्मत रखने वाले अभिषेक उस रात भी महज मुझसे मिलने फरीदाबाद से चले आए थे। ये बस मोहब्बत थी। बिना किसी काम, बगैर किसी प्रोफेशनल रुचि की। रात ढलती रही, वक्त अब खुद पुरज़ोर सिफारिश कर रहा था कि मुझे गुजरना है पर कुछ तो था, जो गुज़र नहीं पाया। हम दोनों एक कृत्रिम झील के किनारे बैठे, बिना किसी कृत्रिमता के दुनिया-जहान की बातें करते रहे। बहुत देर तक भी नहीं...बमुश्किल, 45-50 मिनट। फिर विदा हुए, फिर मिलने की कोशिश के वादे के साथ..."

इन पंक्तियों से चंडीदत्त जी के शब्द कौशल की संपूर्ण तो नहीं मगर एक छोटी सी झलक जरुर मिल गई होगी. उनके जैसे व्यक्तित्व के साथ बिताये वो चंद लम्हे मेरे भी स्मृति पटल पर संगृहीत रहेंगे और आशा करता हूँ कि वो पत्रकारिता में और भी ऊँचाइयाँ हासिल करते हुए हमें भी गौरवान्वित करते रहेंगे. 
चलते-चलते उन्ही की लिखी कुछ पंक्तियाँ -   

तुम रहना स्त्री, बचा रहे जीवन

हे सुनो न स्त्री
तुम, हां बस तुम ही तो हो
जीने का ज़रिया,
गुनगुनाने की वज़ह.
बहती हो कैसे?
साझा करो हमसे सजनी…
होंठ पर गीत बनकर,
ढलकर आंख में आंसू,
छलकती हो दंतपंक्तियों पर उजास भरी हंसी-सी!
उफ़…
तुम इतनी अगाध, असीम, अछोर
बस…एक गुलाबी भोर!
चांद को छलनी से जब झांकती हो तुम,
देखा है कभी ठीक उसी दौरान उसे?
कितना शरमाया रहता है, मुग्ध, बस आंखें मींचे
हां, कभी-कभी पलक उठाकर…
इश्श! वो देखो, मुए ने झांक लिया तुम्हारा गुलाबी चेहरा…
वसंतलता, जलता है वो मुझसे,
तुमसे,
हम दोनों की गुदगुदाती दोस्ती से…
स्त्री…
तुम न होतीं,
तो सच कहो…
होते क्या ये सब पर्व, त्योहार, हंसी-खुशी के मौके?
उत्सव के ज्वार…
मौसम सब के सब, और ये बहारें?
कहां से लाते हम यूं किसी पर, इस कदर मर-मिटने का जज़्बा?
बेढंगे जीवन के बीच, कभी हम यूं दीवाने हो पाते क्या?
कहो न सखी…
जब कभी औचक तुम्हें कमर से थामकर ढुलक गया हूं संपूर्ण,
तुमने कभी-कहीं नहीं धिक्कारा…
सीने से लगाकर माथा मेरा झुककर चूम ही तो लिया…
स्त्री, सच कहता हूं.
तुम हो, तो जीवन के होने का मतलब है…
है एक भरोसा…
कोई सन्नाटा छीन नहीं सकेगा हमारे प्रेम की तुमुल ध्वनि का मधुर कोलाहल
हमारे चुंबनों की मिठास संसार की सारी कड़वाहटों को यूं ही अमृत-रस में तब्दील करती रहेगी.
तुम रहना स्त्री,
हममें बची रहेगी जीवन की अभिलाषा…
उफ़… तुम्हारे न होने पर हो जाते हैं कैसे शब्दकोश बेमानी
आ जाओ, तुम ठीक अभी…
आज खुलकर, पागलों की तरह, लोटपोट होकर हंसने का मन है



Monday, January 10, 2011

चर्चा एक नाटक की ( दिल्ली के 13 वें 'भारत रंग महोत्सव से' )




वाकई एक कालजयी रचना देश, काल और भाषा की सीमाओं से परे होती है, और इसे एक बार फिर साबित किया दिल्ली में नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा ( NSD ) द्वारा आयोजित 13 वें 'भारत रंग महोत्सव' में मंचित नाटक 'एन अन सोल अमारिलो' (In a Yellow Sun : Memories of an Earthquake) ने. बोलिविया की नाट्य संस्था टीटरो डी लांस एनडस द्वारा स्पेनिश भाषा में एक घंटे, दस मिनट का यह नाटक 9 जनवरी की शाम 5:30 पर एल. टी. जी. ऑडिटोरियम; नई दिल्ली में मंचित किया गया. दर्शकों की सुविधा के लिए टेलीविजन स्क्रीन पर इसके अंग्रेजी शब्दानुवाद भी उपलब्ध थे.

निर्देशक कैशर ब्री का यह नाटक 22 मई 1998 को बोलीविया में आये एक विनाशकारी भूकंप की पृष्ठभूमि में निर्मित है. यह नाटक जहाँ एक ओर भूकंप के महाविनाश और भीषणता, उससे प्रभावित हुई आम जनता के सरोकारों को दर्शाता है; वहीँ दूसरी ओर पुनर्वास और राहत के लिए मुहैया राष्ट्रीय व अन्तराष्ट्रीय सहायता की सरकारी और प्रशासनिक लुट - खसोट, भ्रष्टाचार और पीडितों से दुर्व्यवहार जैसी कड़वी सच्चाई को भी सामने लाता है. यह पटकथा और ये दृश्य कहीं से भी विदेशी पृष्ठभूमि से होने का आभास नहीं देते, बल्कि देखने वाला प्रत्येक आम दर्शक चाहे वो किसी भी देश का हो अपने परिवेश को इस प्रस्तुति से जोड़ कर देखने लगता है.


शायद तभी नाटक के क्लाईमेक्स के करीब मंच पर उतरे नेताओं के उलजलूल बयानबाजियों पर हूटिंग के रूप में कागज के गोले फेंकता आम दर्शक कहीं - न - कहीं अपने राजनीतिक विद्रूप पर भी प्रहार कर अपना आक्रोश निकाल रहा होता है. पीड़ित जनता को आंसू पोंछने के लिए रुमाल देने, मैक्डोवेल खुलवाने के वादे जैसे प्रसंग हास्य की जगह गहरा कटाक्षपूर्ण व्यंग्य करते हैं. ब्रेकिंग न्यूज़ का भूखा और मानवीय संवेदनाओं से बेपरवाह मीडिया का रूप इस नाटक में भी सामने आ ही जाता है.

नाटक के कारुणिक दृश्यों में एक अहम दृश्य है जब एक व्यक्ति अपनी बेटी के मलबे में दब जाने का वर्णन कर रहा होता है और बगल में एक मेज पर पावडर से एक बच्ची कि छवि बना, मेज को उलट उसके मिटटी में मिल जाने को निरुपित किया जाता है.


संजोग से इस समय प्राप्त दिल्ली प्रवास के ये संस्मरण, ये अनुभव मेरे लिए काफी अहम रहेंगे. इस नाटक ने इस तथ्य को भी स्पष्ट किया कि आम और संवेदनशील जनमानस किसी सीमित सीमा में ही नहीं बल्कि सारे विश्व में ही लगभग एक सी ही व्यवस्थाजनक परिस्थितियों का सामना कर रहा है. व्यवस्था में परिवर्तन का एक सफल प्रयास निश्चित रूप से पुरे विश्व में ही एक नई लहर उत्पन्न कर देगा जैसा कि कभी हमने 'गांधीयुग' में करके दिखाया था. लेखक, कवि, नाटककार और बुद्धिजीवी वर्ग शायद ऐसी किसी वैश्विक पहल के बारे में भी विचार करें.

(तसवीरें- नेट तथा अपने मोबाइल कैमरे की सीमित क्षमता के साथ)

Friday, January 7, 2011

दिल्ली का आमंत्रण : भारत रंग महोत्सव

राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय (National School of Drama) द्वारा आयोजित नाट्य महोत्सव का 13 वाँ आयोजन 7 – 22 जनवरी 2011 तक नई दिल्ली में आयोजित हो रहा है. रंगमंचीय कला के प्रोत्साहन और विकास के उद्देश्य से आयोजित होने वाले इस कार्यक्रम में राष्ट्रीय व अन्तराष्ट्रीय रंगमंच समूह भी साझीदारी निभाते है, जिस वजह से इस आयोजन ने आज एशिया के सबसे बड़े नाट्य उत्सव का रूप ले लिया है.

महोत्सव के आयोजन को और भी सारगर्भिता देने के लिए इस महोत्सव के समानांतर एक और आयोजन की भी रुपरेखा तैयार की जाती है, ताकि रंगमंच के इस अनूठे उत्सव से दिल्ली से बाहर के लोगों को भी जुडने का अवसर उपलब्ध हो सके और रंगमंच के अनुकूल बेहतर समझ और संस्कृति विकसित हो सके. इस बार इस समानांतर आयोजन के लिए चेन्नई को चुना गया है, 11 – से 18 जनवरी 2011 तक नाट्य आयोजन की यह श्रृंखला चेन्नई में भी जारी रहेगी.

हबीब तनवीर के ‘चरणदास चोर’ से दिल्ली में शुभारंभ होने वाले नाट्योत्सव में विविध मंचन स्थलों पर करीब 80 से ज्यादा राष्ट्रीय और अन्तराष्ट्रीय रंगमंचीय समूहों की प्रस्तुतियों के साक्षात्कार का अवसर उपलब्ध होने वाला है जिसके बारे में विस्तृत जानकारी NSD के केंद्रीय कार्यालय या वेबसाइट - www.nsd.gov.in से प्राप्त की जा सकती है.

तो चलें - नाट्योत्सव के इस महाआयोजन का लुत्फ़ उठाने ! .....

वीडियो - "झूला झूले से बिहारी.....'

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...